भारत को मिल सकती है इस बड़े फुटबाॅल टूर्नामेंट की मेजबानी!

0
476

AFC Asian Cup 2027 के लिए भारत की मजबूत दावेदारी

मुकाबले में कतर, सऊदी अरब, ईरान और उज्बेकिस्तान भी शामिल

 

नई दिल्ली। भारत को पुरुषों के AFC Asian Cup 2027 की मेजबानी मिल सकती है। फीफा अंडर-17 पुरूष विश्व कप की सफल मेजबानी से अखिल भारतीय फुटबाॅल महासंघ (एआईएफएफ) के हौंसले बुलंद हैं। और महासंघ अब अगले साल फरवरी-मार्च में अंडर-17 महिला विश्व कप की मेजबानी के लिए भी पूरी तरह कमर कस चुका है।

एआईएफएफ के महासचिव कुशल दास ने इस बारे में कहा कि हालांकि भारत को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा। लेकिन पिछले अनुभवों को देखते हुए भारत को पुरुषों के AFC Asian Cup 2027 की मेजबानी मिलने की काफी संभावना है। इसके अलावा हम एएफसी महिला एशियाई कप 2022 की मेजबानी का दावा भी पेश कर चुके हैं।

AFC Asian Cup 2027: कतर से होगा मुख्य मुकाबला

दास ने कहा कि AFC Asian Cup 2027 की मेजबानी की दौड़ में कतर, सऊदी अरब, ईरान और उज्बेकिस्तान भी हैं। इनमें से कतर तो 2022 फीफा विश्व कप की मेजबानी भी कर रहा है। ऐसे में दावेदारों की सूची में सबसे मजबूत कतर को कहा जा सकता है। क्योंकि आयोजन के लिए पूरा आधारभूत ढांचा वहां फीफा विश्व कप के दौरान ही तैयार हो चुका होगा। लेकिन भारत भी पीछे नहीं है। तीन बड़े सफल आयोजनों के कारण हमारी दावेदारी भी काफी मजबूत है।

फीफा की उम्मीदों पर पहले भी खरा उतरे

दास ने कहा, ‘‘हमें उम्मीद हैं कि हम AFC Asian Cup 2027 की मेजबानी के साथ 2022 में एएफसी महिला एशियाई कप के मेजबानी अधिकार भी हासिल करेंगे।’’दास ने कहा कि एआईएफएफ को वैश्विक प्रतियोगिताओं की मेजबानी का विचार फीफा के तकनीकी निदेशक ने 2013 में दिया था। उन्होंने कहा, ‘‘ हमें इस बात की आशंका थी कि क्या फीफा हमें उस कद का टूर्नामेंट की मेजबानी का अधिकार देगा। लेकिन हमें 2014 में मेजबानी का अधिकार मिला और हमने काम करना शुरू किया।’’इस विश्व कप (2017 फीफा अंडर-17 विश्व कप) को रिकार्ड संख्या में दर्शकों ने देखा था।

कोरोना से भी पाएंगे पार

उन्होंने कहा कि अंडर-17 विश्व कप की सफल मेजबानी के बाद अधिक प्रतियोगिताओं की मेजबानी के लिए हमारा हौसला बढ़ा है। दास ने कहा, ‘‘2017 के बाद हमारा आत्म विश्वास काफी बढ़ा और अब हम 2021 में महिला अंडर-17 विश्प कप के लिए लगभग तैयार है। कोरोना वायरस के कारण इसमें रूकावट आई है लेकिन उम्मीद है हम इस बाधा को सफलतापूर्वक पार कर लेंगे।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here