देश की पहली गर्ल्स football एकेडमी बेंगलुरु में शुरू

0
2215

रेजिडेंशियल एकेडमी में तैयार होंगी अंडर-13 से अंडर-22 आयु वर्ग की खिलाड़ी

बेंगलुरु। महिलाओं को खेलों में आगे लाने की कवायद के तहत देश की पहली गर्ल्स football एकेडमी बेंगलुरु में आज से शुरू हो गई। येलहंका इलाके के एक स्कूल परिसर में शुरू की गई “RFC Girls Football Academy” नामक यह एकेडमी पूरी तरह से रेजिडेंशियल होगी। यहां आने वाली लड़कियों की ट्रेनिंग से लेकर उनके रहने-खाने का पूरा इंतजार एकेडमी परिसर में ही किया जाएगा।

इस football एकेडमी का संचालन रेबेल्स एफसी क्लब की और से किया जा रहा है। यहां मुख्य रूप से अंडर-13 से लेकर अंडर-22 तक के आयु वर्ग की लड़कियों को ट्रेनिंग दी जाएगी। खिलाड़ियों को UEFA और AFC कोचिंग लाइसेंस हासिल किए गए एक्सपर्ट के आधार पर तैयार किए गए प्रोग्राम के जरिए ट्रेनिंग दी जाएगी।

दरअसल, गर्ल्स का अंडर-17 football वल्र्ड कप भारत में इसी साल नवंबर में होना था लेकिन कोरोना के कारण इसे स्थगित कर दिया गया है। इसका आयोजन अब अगले साल 17 फरवरी से 7 मार्च तक किया जाएगा। लेकिन सरकार और खेल मंत्रालय इस आयोजन को लेकर देशभर में लड़कियों में football को लेकर जागरूकता बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। इसी के तहत लड़कियों की इस पहली football एकेडमी को फुटबॉल फेडेरेशन भी क्रांतिकारी कदम बता रहे हैं।

भारत में गर्ल्स अंडर-17 football वर्ल्ड कप इस साल नवंबर में होना था। लेकिन कोरोना के कारण इसे अगले साल के लिए टाल दिया गया है। अब यह अगले साल 17 फरवरी से 7 मार्च तक होगा।

महिलाओं का football एशियन कप भारत में

भारत में 2022 में महिलाओं का football एशियन कप भी होगा। ऐसे में आरएफसी जैसी एकेडमी इस लक्ष्य को हासिल करने में मददगार साबित होंगी। एकेडमी शुरू होने के मौके पर ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन (AIFF) के महासचिव कुशल दास ने कहा कि हम आरएफसी को लड़कियों की रेजिडेंशियल फुटबॉल एकेडमी शुरू करने के लिए बधाई देते हैं।

नेशनल football टीम को मिलेंगी बेहतरीन खिलाड़ी

भारतीय महिला football टीम की कोच मैमोल रॉकी भी इस क्लब के शुरू होने से खुश हैं। उन्होंने कहा कि यह रेजिडेंशियल एकेडमी दूसरे क्लबों के लिए भी मिसाल बनेगी। एकेडमी के प्लेयर डेवलपमेंट मॉडल की वजह से नेशनल टीम के लिए हमें बेहतर खिलाड़ी मिल सकेंगे।

खेल मंत्रालय ने भी शुरू की गर्ल्स football लीग

खेल मंत्रालय की ओर से पिछले साल खेलो इंडिया स्कूल गेम्स के तहत गर्ल्स football को बढ़ावा देने के लिए फुटबॉल लीग शुरू की थी। वहीं, AIFF और ISL ने भी पिछले साल गर्ल्स फुटबॉल को बढ़ावा देने के लिए फुटबॉल लीग का आयोजन किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here