FIH Junior Hockey WC: बारह पेनल्टी कॉर्नर; एक भी नहीं हुआ गोल, नतीजतन अब भारत करेगा कांस्य पदक के लिए संघर्ष

0
69
FIH Junior Hockey WC Germany beat india by 4-1, Indian team missed chances to reach into final, now will play for bronze

कुआलालम्पुर। FIH Junior Hockey WC: भारतीय हॉकी टीम को पेनाल्टी कॉर्नर न भुना पाने का खामियाजा भुगतना पड़ा और जूनियर विश्व कप के सेमीफाइनल में टीम को जर्मनी के हाथों 1-4 से हार का सामना करना पड़ा। भारतीय टीम को 12 पेनाल्टी कॉर्नर मिले, जिसमें से एक भी गोल में तब्दील नहीं हो सका। छह बार की चैंपियन जर्मनी ने सिर्फ दो पेनल्टी कॉर्नर अर्जित किए और दोनों को भुना लिया। पिछले मैच में नीदरलैंड पर शानदार जीत दर्ज करने वाली भारतीय टीम उस लय को सेमीफाइनल में कायम नहीं रख सकी और जर्मनी ने कमोबेश एकतरफा मुकाबले में तीसरी बार जूनियर पुरूष हॉकी विश्व कप जीतने का सपना तोड़ दिया।

FIH Junior Hockey WC: आज सेमीफाइनल में भारत का मुकाबला जर्मनी से, होगी कांटे की टक्कर

जर्मनी ने पेनल्टी कॉर्नर से ही जीत लिया मैच

इससे पहले क्वार्टर फाइनल में भारतीय टीम ने नीदरलैंड के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया था और 4-3 से जीत हासिल की थी। लेकिन, जर्मनी के खिलाफ FIH Junior Hockey WC सेमीफाइनल में टीम को पेनल्टी कॉर्नर न भुना पाने से हार का सामना करना पड़ा। जर्मनी के बेन हेसबैक ने आठवें (मैदानी गोल) और 30वें मिनट (पेनाल्टी कॉर्नर) में दो गोल कर जर्मनी को 2-1 से बढ़त दिलाई थी।

IND W vs ENG W: आज सिर्फ चंद रनों की दरकार, भारत के नाम होगा सबसे बड़ा रिकॉर्ड

फाइनल में फ्रांस या स्पेन से होगी जर्मनी की टक्कर

इससे पहले एक समय स्कोर 1-1 से बराबरी पर था जब संदीप चिरमाको ने 11वें मिनट में भारत के लिए गोल कर बराबरी दिलाई थी। उसके बाद FIH Junior Hockey WC के इस मुकाबले में जर्मनी ने ग्लेंडर पाल (41वां मिनट) और फ्लोरियन स्पर्लिंग (58वां मिनट) की मदद से गोल कर अपनी जीत सुनिश्चित की। गत उपविजेता जर्मनी की टक्कर अब फ्रांस और स्पेन के बीच होने वाले दूसरे सेमीफाइनल के विजेता के साथ होगी। भारतीय टीम शनिवार को कांस्य पदक के मुकाबले के लिए भिड़ेगी।

IND vs SA: भारत की जीत के हीरो सूर्या और कुलदीप, रिकॉर्ड बुक में मचा दी तबाही

जर्मनी के खिलाफ इस बार मिली पांचवीं हार

भारतीय जूनियर टीम इस साल जर्मनी से पांच बार भिड़ी है और हर बार उसे पराजय का सामना करना पड़ा है। इसी प्रतिद्वंद्वी से 2021 के सेमीफाइनल में 2-4 से हार मिली थी। FIH Junior Hockey WC के क्वार्टर फाइनल में दो गोल से पिछडऩे के बाद वापसी करने वाली भारतीय टीम के पास जर्मनी के मजबूत डिफेंस और चुस्त आक्रमण का जवाब नहीं था। जर्मनी ने चारों क्वार्टर में एक एक गोल किया जबकि भारत के लिये एकमात्र गोल चिरमाको सुदीप ने 11वें मिनट में दागा। जर्मनी के लिये हेसबाक बेन ने आठवें मिनट में मैदानी गोल और 30वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर पर गोल किया जबकि ग्लेंडर पॉल ने 41वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील किया। स्पर्लिंग फ्लोरियन ने आखिरी सीटी बजने से दो मिनट पहले मैदानी गोल करके 4 . 1 से जीत पर मुहर लगाई।

AUS vs PAK: ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी, वॉर्नर-ख्वाजा की सधी शुरूआत

अब कांस्य पदक के लिए खेलेगा भारत

अब भारत को FIH Junior Hockey WC के कांस्य पदक के लिये फ्रांस या स्पेन से खेलना होगा । भारत ने 2001 में होबर्ट और 2016 में लखनऊ में जूनियर पुरूष हॉकी विश्व कप जीता था। इसके अलावा वह 1997 में इंग्लैंड के मिल्टन कीज में उपविजेता रहा था। पिछली बार दो साल पहले भुवनेश्वर में उसे चौथे स्थान से संतोष करना पड़ा था। इस साल भारत का सामना जर्मनी से पांच बार हुआ है और पांचों बार उसे पराजय का सामना करना पड़ा। पिछली बार जोहोर कप सेमीफाइनल में जर्मनी ने उसे 6-3 से हराया था। भुवनेश्वर में जूनियर विश्व कप 2021 में भी जर्मनी ने सेमीफाइनल में भारत को 4-2 से शिकस्त दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here