अब Coaching के मैदान में उतरेंगे बॉक्सर मनोज-रोवर बजरंग

0
1466
Boxer Manoj-Rover Bajrang will now enter the field of Coaching

ओलंपियन और राष्ट्रमंडल खेलों के 33 पदकधारी खिलाड़ियों ने साई Coaching कोर्स के लिए किया आवेदन

नई दिल्ली। ओलंपिक-एशियन गेम्स में पदक जीतकर देश का नाम रोशन कर चुके खिलाड़ी अब विभिन्न खेलों की नई पीढ़ी को तैयार करने की कोशिश में जुट गए हैं। यही कारण है कि राष्ट्रमंडल खेलों के पूर्व चैंपियन मुक्केबाज मनोज कुमार और तीन बार के एशियाई मेडलिस्ट नौकाचालक (रोवर) बजरंग लाल ताखर अब Coaching के फील्ड में उतरने जा रहे हैं। मनोज और ताखर उन 33 खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्होंने भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के Coaching डिप्लोमा कोर्स के लिए आवेदन किया है।

दरअसल, साई ने अपनी प्रवेश नीति को नया रूप दिया था जिसके बाद शैक्षणिक वर्ष 2020-21 के लिए उसे कई आवेदन मिले हैं। नई नीति के अनुसार किसी भी ओलंपियन को अनिवार्य प्रवेश परीक्षा से गुजरे बिना राष्ट्रीय खेल संस्थान (एनआईएस) पटियाला में सीधा प्रवेश मिलेगा।

साई को Coaching डिप्लोमा कोर्स के लिए जिन ओलंपियन के आवेदन मिले हैं उनमें बजरंग (2008 बीजिंग), मनोज (2012 लंदन) तथा 2016 के रियो ओलिंपिक में भाग लेने वाले कुन्हु मोहम्मद (एथलेटिक्स) और पूनम रानी (हॉकी) शामिल हैं। ये सभी ओलंपियन है। मनोज ने इसके अलावा 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में गोल्ड जीता था और उन्होंने कई बार महाद्वीपीय प्रतियोगिताओं में पदक जीते। बजरंग ने तीन बार एशियाई खेलों में पदक हासिल किया। यह कोर्स अक्टूबर के मध्य में शुरू होना है।

Corona के खौफ से दिल्ली का फिरोजशाह कोटला स्टेडियम बंद

15 खेलों के लिए आए Coaching के आवेदन

साई ने बयान में कहा, ‘नेताजी सुभाष राष्ट्रीय खेल संस्थान पटियाला में खेल Coaching के डिप्लोमा कोर्स में सीधे प्रवेश के लिये 15 खेलों में 33 प्रख्यात खिलाड़ियों ने आवेदन किया है। इन (ओलिंपियन) और अन्य खिलाड़ियों ने ए (1) सीधी प्रवेश श्रेणी के तहत डिप्लोमा कोर्स के लिए आवेदन किया और उनकी ऑनलाइन परीक्षा नहीं होगी।’

इससे पहले साई ने मई में कहा था कि 23 खेलों के लिए 46 प्रख्यात खिलाड़ियों (प्रत्येक खेल में एक पुरुष और एक महिला) को Coaching डिप्लोमा कोर्स के लिये सीधे प्रवेश मिलेगा। मोहम्मद 4Û400 मीटर रिले में 2017 के एशियाई चैंपियन हैं। इसके अलावा उन्होंने एशियाड में रजत पदक जीता है। रानी 2014 में एशियाई खेलों की कांस्य पदक विजेता टीम का हिस्सा थी।

Thomas and Uber cup 2020 में खेलेंगी पी वी सिंधु, बाई अध्यक्ष के आग्रह पर बदला फैसला

एशियन और कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए भी मापदंड बदले

साई ने बयान में कहा, ‘एशियन या कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीतने का मानदंड भी बदलकर इनमें से किसी भी प्रतियोगिता में पदक- स्वर्ण, रजत या कांस्य कर दिया गया। ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करने वाले शीर्ष खिलाड़ी Coaching कोर्स के लिए आवेदन करने की स्वतः योग्यता रखते हैं।’ साई राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) के साथ मिलकर ने पहली ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा (शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिये) आयोजित करेगा। यह परीक्षा देश भर के 17 एनटीए केंद्रों में 12 सितंबर को होगी। साई ने सीटों की संख्या भी 566 से बढ़ाकर 725 कर दी है जिसे राष्ट्रीय खेल संस्थान की शैक्षणिक परिषद ने मंजूरी दे दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here