T20 World Cup जीतने के बाद विराट-रोहित ने लिया टी20 क्रिकेट से संन्यास

0
431
Virat Kohli and Rohit sharma announced retirement from T20 cricket after winning T20 World Cup

बारबडोस। T20 World Cup: भारत का टी20 वर्ल्ड कप जीतने का 17 साल का इंतजार शनिवार की रात खत्म हुआ। रोहित शर्मा की कप्तानी में टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका को 7 रनों से शिकस्त देकर T20 World Cup 2024 का खिताब अपने नाम किया। इस जीत के दो सबसे बड़े चेहरे रहे रोहित शर्मा और विराट कोहली और वर्ल्ड चैंपियन बनते ही दोनों ने अब टी20 क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया है।

रोहित-विराट के साथ टीम के बाकी खिलाड़ी भी अहम रहे, लेकिन इंडियन क्रिकेट के इन 2 दिग्गजों ने भारत की वर्ल्ड कप भूख खत्म करते ही टी-20 से संन्यास ले लिया। इसलिए इनका क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में लेजेंडरी सफर तो जानना जरूरी हो गया है। सुपर 8 के आखिरी मैच में ऑस्ट्रेलिया और फिर सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ जीत के नायक रोहित शर्मा रहे। वहीं पूरे टूर्नामेंट में खराब फॉर्म से जूझ रहे विराट ने फाइनल में 76 रनों की अपनी ऐतिहासिक पारी के दम पर टीम इंडिया की जीत की नींव रखी।

IND vs SA: आधी रात भारत में मनी दीवाली, टीम इंडिया T20 World Cup चैंपियन

जीत के बाद क्या कहा विराट कोहली ने

VIrat Kohli ने कहा, ’यह मेरा आखिरी टी-20 वर्ल्ड कप था, हम यही अचीव करना चाहते थे। शानदार गेम। रोहित के साथ ओपनिंग पर जाते हुए मैंने उनसे कहा था, किसी दिन आपको लगता है कि अब रन नहीं बनेंगे, फिर आप बैटिंग करने जाते हैं और रन आने लग जाते हैं। भगवान महान हैं, मैं शुक्रगुजार हूं कि टीम को जब सबसे ज्यादा जरूरत थी, तब मैं परफॉर्म कर सका। यह हमारा सपना था, हम आईसीसी टूर्नामेंट जीतना ही चाहते थे, हम कप उठाना चाहते थे। मैंने सिचुएशन का सम्मान किया, फोकस रखा और अपनी टीम के हिसाब से खेला। सच कहूं तो मुझे यकीन नहीं हो रहा है कि ये कैसे हो गया, जितना खराब टूर्नामेंट मेरा जा रहा था, मैं फाइनल में परफॉर्म कर खुश हूं।

हम अगर फाइनल हार जाते तब भी मैं संन्यास ले लेता। अब नई जनरेशन जिम्मेदारी संभाले। वर्ल्ड कप 2 साल बाद होगा, भारत में बहुत से टैलेंटेड खिलाड़ी हैं, ये टी-20 फॉर्मेट में टीम को आगे ले जाएंगे। मुझे यकीन है कि वे भारत का झंडा इसी तरह लहराएंगे।’

IND vs SA: ये हो सकती है T20 World Cup Final में टीम इंडिया की प्लेइंग XI
Rohit SHarma ने भी टी20 क्रिकेट को किया अलविदा

शानदार जीत के बाद रोहित ने कहा, ’मेरा भी यह आखिरी टी-20 था। इस फॉर्मेट को अलविदा कहने का इससे बेहतर समय नहीं हो सकता। मैंने करियर का हर मोमेंट एंजॉय किया। मैंने अपना इंटरनेशनल करियर इसी फॉर्मेट से शुरू किया। मैं यही चाहता था, मैं कप जीतना चाहता था। मेरे पास शब्द नहीं हैं। मेरे लिए यह बहुत इमोशनल मोमेंट है, मैं आईसीसी ट्रॉफी किसी भी हाल में जीतना चाह रहा था। खुश हूं कि हमने फाइनली यह कर दिखाया।

T20 World Cup: ऑस्ट्रेलिया के बाद इंग्लैंड से भी हिसाब बराबर, अब साउथ अफ्रीका की बारी

T20 World Cup में विराट कोहली का यादगार सफर

विराट ने टी20 वर्ल्ड कप 2024 के फाइनल में साउथ अफ्रीका के खिलाफ फाइनल में 76 रन बनाए। इसी के साथ टी-20 वर्ल्ड कप करियर उन्होंने सबसे ज्यादा 1292 रन बनाकर खत्म किया। विराट ने टूर्नामेंट में 15 फिफ्टी लगाईं। 300 से ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों में उनका करीब 59 का औसत बेस्ट रहा। विराट ने वर्ल्ड कप में कई यादगार पारियां खेली हैं लेकिन साउथ अफ्रीका के खिलाफ 76 रनों की पारी उनकी सर्वश्रेष्ठ पारी रही। क्योंकि इसी के दम पर भारत ने 17 साल बाद टी-20 वर्ल्ड कप जीता। जिसके लिए विराट को प्लेयर ऑफ द फाइनल का अवॉर्ड भी मिला।
टी-20 वर्ल्ड कप तो उनके लिए कुछ ज्यादा ही स्पेशल है। उन्होंने 2012 में इस फॉर्मेट का पहला वर्ल्ड कप खेला, इसमें 2 फिफ्टी लगाई। फिर अगले ही वर्ल्ड कप में 4 फिफ्टी के सहारे 319 रन बना दिए, टीम तब खिताब भले न जीत सकी हो लेकिन विराट प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट बनकर सांत्वना पुरस्कार जरूर ले गए।

IND vs ENG: टी20 वर्ल्ड कप 2024 के फाइनल में भारत, इंग्लैंड को 68 रनों से रौंदा

टी-20 वर्ल्ड कप के दूसरे टॉप स्कोरर रहे रोहित शर्मा

रोहित शर्मा ने 2007 में पहला ही T20 World Cup खेला, भारत इसमें जीता। तब से रोहित ने लगातार 9 वर्ल्ड कप खेले। 47 मुकाबलों में उन्होंने 34.85 की औसत और 133.04 की स्ट्राइक रेट से 1220 रन बनाए। इनमें 12 फिफ्टी शामिल रहीं। वह विराट के बाद वर्ल्ड कप के दूसरे टॉप स्कोरर हैं। 2024 से पहले टी-20 वर्ल्ड कप में रोहित की यादगार पारियां बहुत कम थीं। उन्होंने 2007 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ फिफ्टी और फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ 30 रन की अहम पारी खेली। उन्होंने 2010 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 79 रन भी बनाए थे। लेकिन रोहित की 2 सबसे जरूरी पारियां इस बार आईं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सुपर-8 के आखिरी मैच में महज 41 बॉल पर 92 रन बना दिए। उन्होंने फिर सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ मुश्किल पिच पर 57 रन बनाए और सूर्यकुमार यादव के साथ 75 रन की पार्टनरशिप की, जो मैच विनिंग साबित हुई।

SA vs AFG: साउथ अफ्रीका पहली बार T20 World Cup फाइनल में, अफगानिस्तान को 9 विकेट से रौंदा

टी-20 इंटरनेशनल के टॉप रन स्कोरर

रोहित ने भारत से 159 टी-20 खेले। इनमें करीब 32 की औसत और 141 के स्ट्राइक रेट से 4231 रन बनाए। वह इस फॉर्मेट के टॉप रन स्कोरर हैं। इनमें 32 फिफ्टी और 5 शतक शामिल हैं। उनके पांचों शतक 5 अलग-अलग टीमों के खिलाफ आए। आखिरी सेंचुरी तो उन्होंने इसी साल अफगानिस्तान के खिलाफ लगाई। रोहित ने 62 टी-20 में भारत की कप्तानी की, इनमें 50 में टीम को जीत और महज 12 में हार मिली। यानी 81 फीसदी मैचों में भारत ने सफलता हासिल की। इसी के साथ वह टी-20 में भारत के सबसे सफल कप्तान बने। उनके बाद एमएस धोनी ने 72 में से 42 टी-20 में भारत को जीत दिलाई थी।